Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Tuesday, 11 October 2011

दक्षिण दिशा में पैर करके कदापि नहीं सोना चाहिए

उत्तर की ओर पैर करके सोने से शरीर के सभी सूक्ष्म तंतुओं का आकर्षण विरूद्ध होने से इसका लाभ शरीर को अपने आप मिलता रहता है। इसके विपरीत दक्षिण दिशा की ओर पैर करके सोने से शरीर के तमाम सूक्ष्म तंतुओं का आकर्षण उलटी दिशा में होता है। इसलिए अन्न पाचन की क्रिया में व्यवधान उत्पन्न होता है। इसके अलावा ज्ञान तंतुओं का उलटा भ्रमण होने से मस्तिष्क को थकान महसूस होती है। परिणामस्वरूप निद्रावस्था यथोचित समाधान नहीं दे पाती। इससे निरंतर बुरे स्वप्न दिखाई देते हंै।इसलिए शास्त्र कहता है कि दक्षिण दिशा में पैर करके कदापि नहीं सोना चाहिए