Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Saturday, 28 January 2012

सुख के साथ दु:ख भी जीवन का हिस्सा है

सुख के साथ दु:ख भी जीवन का हिस्सा है। यही कारण है सफलता को कायम रखना भी कठिन होता है। इसलिए ऊंचाई पर बने रहने के लिए जरूरी है योग्यता, हौंसला और इच्छा शक्ति। फिर भी किसी न किसी रूप में जीवन की गति में रुकावट आए तो हर इंसान ऐसे उपाय और तरीके अपनाना चाहता है, जो सरल होने के साथ सफलता में कारगर भी हो। शास्त्रों में जीवन में आने वाली अनचाही परेशानियों, कष्ट, बाधाओं और संकट को दूर करने के लिए ऐसे देवताओं की उपासना के धार्मिक उपाय बताए हैं, जो न केवल मुश्किल हालात में भरपूर मानसिक शक्ति और शांति देते है, बल्कि उनका अचूक प्रभाव हर भय चिंता से मुक्त कर सफलताओं की बुलंदियों तक ले जाता है। यहां कुछ ऐसे देवताओं के मंत्र बताए जा रहें हैं। जिनको घर, कार्यालय, सफर में मन ही मन बोलना भी संकटमोचक माना गया है। इन मंत्रों को बोलने के अलावा यथासंभव समय निकालकर साथ ही बताई जा रही पूजा सामग्री संबंधित देवता को जरूर चढ़ाएं - शिव : मंत्र - नम: शिवाय, षडाक्षरी मंत्र - ऊँ नम: शिवाय महामृंत्युजय मंत्र - पूजा सामग्री - दूध मिला जल, धतूरा, बिल्वपत्र। श्री गणेश : मंत्र - ऊँ गं गणपतये नम: पूजा सामग्री - दूर्वा, सिंदूर श्री विष्णु : ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय पूजा सामग्री - पीले फूल या वस्त्र श्री हनुमान : ऊँ हं हनुमते नम: पूजा सामग्री - सिंदूर, गुड़-चना देवी : ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे। सामग्री - लाल चुनरी व चना-हलवा