Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Tuesday, 20 November 2012

संत और गुरु में क्या अंतर होता है ?

संत और गुरु में क्या अंतर होता है ? संतोंमें भी स्तर होते हैं , गुरुपद के संत (७० प्रतिशत आध्यात्मिक स्तर) से शक्तिके स्पंदन प्रक्षेपित होते हैं, सद्गुरु पदके संत (80% आध्यात्मिक स्तर) उसके अगले स्तरके होते हैं और उनसे आनंदके स्पंदन प्रक्षेपित होते हैं और वह वह शक्तिके स्पंदनसे अधिक सूक्ष्म होते हैं और सबसे ऊपर परात्पर पदके संत (९० % आध्यात्मिक स्तर) के होते हैं उनसे शांतिके स्पंदन प्रक्षेपित होते हैं | सभी गुरु संत होते हैं, परन्तु सभी संत गुरु नहीं होते | गुरु पद एक कठिन पद होता है और कई बार संत इस पदको स्वीकार करने को इच्छुक नहीं होते और वे आत्मानंदमें रत रहना पसंद करते हैं | ऐसे संतोके मात्र अस्तित्वसे ब्रह्माण्डकी सात्त्विकता बनी रहती है | कुछ संत भक्तोंके अध्यात्मिक कष्ट दूर तो करते हैं, पर किसी को शिष्य स्वीकार कर उसे मोक्ष तक ले जानेको इच्छुक नहीं होते क्योंकि संतोंको पता होता है मात्र शिष्य बनानेसे काम समाप्त नहीं होता, शिष्य जब तक मोक्षको प्राप्त नहीं होता, तब तक वह उत्तरदायित्व गुरुका होता है; अतः कई गुरु शिष्य बनाते समय बहुत सतर्क रहते हैं और योग्य पात्रको ही शिष्य स्वीकार करते हैं | मात्र गुरु पद स्वीकार करनेके पश्चात् संतोकी प्रगति मोक्षकी द्रुत गतिसे होती है | ईश्वर प्रत्येक संतको गुरुके लिए नहीं चुनते, जिनमे दूसरोंको सिखानेकी विशेष क्षमता हो, मां समान मातृत्व, क्षमाशीलता और प्रेम हो, उसे ही सद्गुरु पद पर आसीन करते हैं | What is the difference between a saint and a Guru? Saints too are at different levels as per their sadhana, saints of the status of Guru (70% spiritual level) emit vibrations of Shakti (energy); saints at the status of Sadguru (spiritual master) at 80% spiritual level, are saints of the next higher level and they emit vibrations of bliss. These vibrations are even more subtle than vibrations of Shakti. The saints of the highest status – Paratpar level - are at a spiritual level of more than 90% and they project vibrations of peace. All Gurus are saints, but all saints are not Gurus. The status of a Guru is a difficult one and many a time, saints are not willing to accept this status because they like to remain in a state of bliss. The mere existence of such saints maintains the Sattvikta (purity) of the universe. Some saints remove the spiritual problems of devotees, but they are not desirous of accepting someone as their disciple and take one to Moksha (liberation), for saints know that merely accepting one as a disciple is not enough. Till the time the disciple attains Moksha, it continues to be a responsibility of the Guru. Hence, many Gurus remain alert while accepting disciples and only accept eligible seekers as disciples. Merely by accepting the status of a Guru, saints make progress towards Final Liberation at a rapid pace. God does not select every saint to be a Guru, He confers the status of a Sadguru only upon those who have a special ability to teach others, possess a maternal affection and are forgiving in nature