Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Thursday, 17 January 2013

तेरा दर्श पाने को जी चाहता है

www.goswamirishta.com

तेरा दर्श पाने को जी चाहता है।
खुदी को मिटाने का जी चाहता है॥
पिला दो मुझे मस्ती के प्याले।
मस्ती में आने को जी चाहता है॥
उठे श्याम तेरे मोहोब्बत का दरिया।
मेरा डूब जाने को जी चाहता है॥
यह दुनिया है एक नज़र का धोखा।
इसे ठुकराने को जी चाहता है॥
श्री कृष्ण गोविन्द, हरे मुरारी, हे
नाथ, नारायण, वासुदेव.
तेरा दर्श पाने को जी चाहता है।
खुदी को मिटाने का जी चाहता है॥
पिला दो मुझे मस्ती के प्याले।
मस्ती में आने को जी चाहता है॥
उठे श्याम तेरे मोहोब्बत का दरिया।
मेरा डूब जाने को जी चाहता है॥
यह दुनिया है एक नज़र का धोखा।
इसे ठुकराने को जी चाहता है॥
श्री कृष्ण गोविन्द, हरे मुरारी, हे
नाथ, नारायण, वासुदेव.shashikhillan