Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Tuesday, 22 January 2013

अनिष्ट शक्ति क्या होती है ?

www.goswamirishta.com


ईश्वरने सृष्टिकी रचनाके साथ ही दो शक्तियों देव और असुरका निर्माण किया जिसमें एक है इष्टकारी शक्ति, कल्याणकारी शक्ति और दूसरा अनिष्ट शक्ति अर्थात विनाशकारी शक्ति | जब किसी दुर्जनकी मृत्यु हो जाए और उसका क्रिया-कर्म वैदिक रीतिसे न हुआ हो, या उसके कर्मानुसार उसे गति न मिले, तो वे भी अनिष्ट शक्तिके गुटमें चले जाते हैं | उसी प्रकार हमारे पूर्वजोंने पापकर्म किए हों, या उनकी कोई इच्छा अतृप्त रह गई हो और हम अतृप्त पितरोंकी सद्गतिके लिए योग्य साधना नहीं करते हों, तो वे भी अनिष्ट शक्तिके गुटमें चले जाते हैं और साधनाके अभावमें बलाढ्य आनिष्ट शक्तियां उन्हें सूक्ष्म जगतमें बंधक बना, उनसे बुरे कर्म करवाती हैं अतः उनसे भी कष्ट होता है |
वर्तमान समयमें धर्माचरणके अभावमें व्यष्टि (वैयक्तिक) एवं समष्टि (सामाजिक) जीवनमें अनिष्ट शक्तिका कष्ट बढ़ गया है और चारों ओर ‘त्राहिमां’ की स्थिति बन गयी है |
अनिष्ट शक्तियोंका कष्ट किसे हो सकता है ?
सर्वप्रथम तो यह बता दूं कि अनिष्ट शक्तियोंके कष्टसे आज संपूर्ण मानव जाति पीड़ित है |
तीन वर्गोंमें इसका विभाजन कर कारण बताती हूं |
१. जो साधना नहीं करते
२. . जो साधना करते है
३. संत
आज तीनों ही वर्गको कष्ट है, क्यों ?
* जो साधना नहीं करते उनकी स्थिति अतिदयनीय होती है वे पूर्णतः अनिष्ट शक्तियोंके नियंत्रणमें चले जाते हैं |
आजकी अर्ध्नंगी मॉडल, आजके भ्रष्ट नेता , समलैंगिक लोग, बलात्कारी, अहंकारी, आजके अति आधुनिक व्यक्ति एवं पाश्चात्य संस्कृतिके रंगमें रंगे लोग, मद्यपि इत्यादि सबपर अनिष्ट शक्तियोंका सर्वाधिक नियंत्रण होता है, या यूं कहें कि शरीर उनका, मन और बुद्धि अनिष्ट शक्तियों की ! आज समाजके पचास प्रतिशत साधारण लोगोंको अनिष्ट शक्तियोंका तीव्र कष्ट है !
• जो साधना करते हैं, उन्हें वे कष्ट इसलिए देते हैं कि वे भी साधना पथसे हट जाएं और उनके मनमें धर्म अध्यात्म , संत और गुरुके प्रति विकल्प आ जाये जिससे कि उनकी साधना खंडित हो जाये और अनिष्ट शक्तियां उनके ऊपर नियंत्रण कर लें | आज समाजके सत्तर प्रतिशतसे अधिक प्रमाणमें अच्छे साधकोंको कष्ट है |

* संतको कष्ट क्यों होता है ?
संतकी सूक्ष्म देह ईश्वरके निर्गुण स्वरूप अर्थात समाजसे समष्टि स्वरुपसे एकरूप होता है, अतः उन्हें भी कष्ट होता है |
किसीको अनिष्ट शक्तियोंसे संबन्धित कष्ट हैं यह कैसे समझें ?
इस सम्बन्धमें कुछ बातें ध्यान रखें, जो भी सामान्य नहीं हो रहा है और बुरा हो रहा है, वह अनिष्ट शक्तियोंके कारण हो सकता क्योंकि असामान्य और इष्ट करनेकी क्षमता साधारण व्यक्तिमें नहीं होती, वह केवल ईश्वरमें या संतोंमें होती है | उसी प्रकार सामान्य स्तरपर कुछ बुरा हो रहा हो और बुद्धिसे समझमें न आये और शारीरिक, बौद्धिक एवं मानसिक स्तरपर प्रयास करनेपर भी विशेष सफलता न मिले तो समझ लें कि वह अनिष्ट शक्तियोंके कारण हो रहा है, चाहे वह स्वास्थ्यसे संबंधित हो, अपने सगे-संबंधियोंसे संबंधित हो या अर्थोपार्जनसे संबंधित हो |
अनिष्ट शक्तियोंके कारण किस प्रकारके कष्ट हो सकते हैं ?
अवसाद (डिप्रेशन ), आत्महत्याके विचार आना, अत्यधिक क्रोध आना और उस आवेशमें अपना आपा पूर्ण रूपसे खो देना, मनमें सदैव वासनाके विचार आना, नींद न आना, अत्यधिक नींद आना, शरीरके किसी भागमें वेदना होना और औषधिद्वारा उस वेदनाका ठीक न हो पाना, मनका अत्यधिक अशांत रहना, व्यवसायमें सदैव हानि होना, परीक्षाके समय सदैव कुछ न कुछ अडचन आना , घरमें सदैव कलह-क्लेश रहना, लगातार गर्भपात होना, सतत आर्थिक हानि होना, रोगका वंशानुगत होना, व्यसनी होना, सतत अपघात या दुर्घटना होते रहना, नौकरी या जीविकोपार्जनमें सदैव अडचन होना, सामूहिक बलात्कार, समलैंगिकता, भयावह यौन रोग यह सब अनिष्ट शक्तियोंके कारण हो सकते हैं |
अनिष्ट शक्तियोंसे बचाव कैसे करें ?
* भारतीय संस्कृति अनुसार आचरण करें
* पाश्चात्य संस्कृतिका कमसे कम अनुकरण करें
१. अपनी वेशभूषा भारतीय संस्कृतिके अनुसार रखें, ध्यान रखें भारतीय संस्कृति-अनुसार वेशभूषासे हमारा अनिष्ट शक्तियोंसे रक्षण होता है और देवताके तत्त्व भी हमारी ओर आकृष्ट होते हैं | अतः स्त्रियोंको साडी और पृरुषोंको धोती, कुर्ता या कुर्ता-पायजामा धारण करना चाहिए | स्त्रियोंको भूलसे भी पुरुषोंके वस्त्र नहीं धारण करने चाहिए; इससे स्त्रियोंको जनेन्द्रियां संबंधित कष्ट होते हैं |
तिलक या टीका लगाएं इससे भी अनिष्ट शक्तियोंकी काली शक्ति आज्ञा चक्रमें प्रवेश नहीं कर पाती हैं |
१. पुरुषने शिखा और यदि यज्ञोपवीत हो चुका हो तो उसे धारण करें |
२. स्त्रियोंने भूलसे भी मद्य और सिगरेट नहीं पीनी चाहिए, इससे स्त्रीकी योनि अनिष्ट शक्तियोंके लिए पोषक स्थान बन जाती है और उनकेद्वारा उत्पन्न बच्चोंको जन्मसे ही अनिष्ट शक्तियोंके कष्ट होते हैं |
३. जहां तक संभव हो काले वस्त्रका प्रयोग पूर्ण रूपसे टालना चाहिए, इससे भी अनिष्ट शक्तियोंका कष्ट होता है |
४. बाहरका भोजन विशेष कर डब्बाबंद (tinned) खाद्य सामाग्रीको ग्रहण करना टालना चाहिए, यदि ग्रहण करना ही पडे तो प्रार्थना और नामजप कर ग्रहण चाहिए |
५. सुबह सूर्योदयसे पहले उठना चाहिए सूर्योदयके पश्चात उठनेसे मन एवं बुद्धिपर आवरण निर्माण होता है |
६. किसी भी प्रकारके व्यसनको चखनेसे भी बचना चाहिए |
७. मांसाहारके बजाय शाकाहारकी ओर प्रवृत्त होना चाहिए |
८. प्रतिदिन आठ-दस लोटे जलमें नमक पानी और देसी गायके गौमूत्रका एक चम्मच डाल पहले स्नान करना चाहिए तत्पश्चात सामान्य स्नान करना चाहिए |
९. आजकलके डियो और तेज सुगंधी अनिष्ट शक्तियोंको आकृष्ट करनेकी प्रचंड क्षमता रखते है उन्हें लगाना पूर्णत: टालना चाहिए यदि लगाना ही हो तो पूजामें देवताको अर्पण करनेवाले फूलोंसे बने या नैसर्गिक पदार्थसे बने इत्र लगाना चाहिए |
१०. सिंथेटिक और चमड़ेके वस्त्र पहनना पूर्णत: टालना चाहिए |
११. टीवी और नेटपर बिना विशेष कारण अधिक समय नहीं देना चाहिए वे रज-तमके स्पंदन प्रक्षेपित करते हैं और हमारे मन एवं बुद्धिपर आवरण निर्माण करते हैं |
१२. भुतहा एवं डरावनी (हॉरर) फिल्म्स और धारावाहिक देखना टालना चाहिए, इससे भी घरमें काली शक्ति प्रक्षेपित होती है |
१३. नमक-पानीका नियमित उपाय करना चाहिए, जिन्हें कष्ट हो उन्हें दो बार अवश्य ही करना चाहिए | नमक-पानीका उपाय नियमित करनेसे मन एवं बुद्धिपर छाया काला आवरण नष्ट हो जाता है और मन एकाग्र और शांत रहनेमें सहायता मिलती है |
१४. सात्त्विक और पारंपरिक अलंकार धारण करने चाहिए |
१५. सोते समय पूर्ण अंधेरा कर नहीं सोना चाहिए संभव हो तो घीका या तेलका दिया जलाकर सोना चाहिए अन्यथा पीले रंग या सफ़ेद रंगके नाइट बल्ब जलाकर सोना चाहिए |
१६. नामजप अधिकसे अधिक प्रमाणमें करना चाहिए |
१७. पितरोंके चित्र घरमें रखना टालना चाहिए | किसी संतकी कृपा पानेका प्रयास करने हेतु उनके बताए अनुसार साधना करना चाहिए |
१८. गंगा, जमुना नर्मदा, कावेरी जैसे पवित्र नदियोंमें, या समुद्र स्नानका यदि संधि मिले तो अवश्य ही करना चाहिए, इससे ही अनिष्ट शक्तियोंके कष्ट कम हो जाते हैं |
१९. घरका वातावरणको शुद्ध करनेका नियमित प्रयास करना चाहिए; अतः घरमें वास्तु शुद्धिके सारे उपाय नियमित करें |
२०. यदि संभव हो तो घरमें देसी गाय अपने प्रांगणमें रखें |
२१. अपने धनका त्याग धर्म-कार्य हेतु नियमित करना चाहिए |
२२. ग्रन्थोंका वाचन करें और उसे जीवनमें उतारनेका प्रयास करें |
२६. घर एवं बाहर स्वभाषामें संभाषण करें | संस्कृत देव वाणी है; अतः इसे स्वयं भी सीखें और अपने बच्चोंको भी अवश्य सिखायें | संस्कृत पढनेसे तेजस्विता बढती है
२७. नियमित योगासन एवं प्राणायाम करें | इससे हमारे शरीरमें एकत्रित काली शक्ति नष्ट होती है और स्थूल देह एवं मनोदेह (मन) की ३०% तक शुद्धि होती है, जिससे हम शारीरिक रूपसे स्वस्थ रह सकते हैं |
२८. फिल्मी गाने और विशेषकर पाश्चात्य संगीतको अधिक समय सुननेसे बचें | इससे भी हमारे शरीरमें काली शक्ति प्रवेश करती है |
२९. स्त्रियोंको अपने केश लंबे रखने चाहिए और नाखून नहीं बढ़ाने चाहिए | स्त्रियोंको अपने केश खुले नहीं छोडने चाहिए |
३०. सोनेसे पूर्व पंद्रह मिनट नामजप कर, उपास्य देवतासे कवच मांगकर सोना चाहिए | इससे रात्रिमें होने वाले अनिष्ट शक्तिके आक्रमणसे बच सकते हैं |
३१. अपने स्वभाव दोषको दूर करनेके लिए प्रतिदिन अपनी चूक एक अभ्यास पुस्तिकामें लिखनी चाहिए और उस प्रकारकी चूक पुनः न हो, यह प्रयास करना चाहिए |
३२. अनावश्यक बातें करना, अपशब्द बोलना इत्यादि पूर्णत: टालना चाहिए |

Problems caused by negative energies and its spiritual remedies
WHAT IS NEGATIVE ENERGY?
Since the time the universe was created, the Almighty created two energies, Dev (Deities) and Asur (Demons). One is a benevolent force meant for human welfare, while the other is a negative, destructive force. When an evil person dies and his last rites are not performed according to Vedic rituals; or the soul is not able to gain momentum due to bad deeds; or some of his/her desires remain unfulfilled; and if one does not follow spiritual practices for the liberation of such unsatiated ancestors, such embodied souls too join the group of negative forces. In the absence of spiritual strength, mantriks(negative energies) much more powerful than them turn such embodied souls captive in the subtle world and force them to do evil deeds. Thus, they are troubled for a long time.
Today, in the absence of people abiding by the Vedic Dharma’s code of conduct, the problems caused by negative energies in one’s personal and social life have increased manifold, leading to a Trahimam (have mercy on us!) like situation
Who all can suffer from troubles by negative energies ?
First of all, let me tell you that today entire human race is suffering from the problems afflicted by evil forces. Let’s see it by making a three-fold classification:
1. Those who do not do spiritual practice.
2. The seekers who do some kind of spiritual practice;
3. Saints.

Today, why are all the three categories suffering ? The condition of those who do not do spiritual practice is the most pitiable, they are entirely under the control of negative energies .
Today’s semi-clad models, corrupt leaders, homosexual people, rapists, killers, egoistic persons, the Hindus who follow the western culture blindly, drunkards – all these people are the ones who are most controlled by negative energies, or to put it in other words, the physical bodies are theirs and the mind and intellect are of negative energies.
In contemporary society, more than 30% of the people are suffering from normal to severe impact of negative energies. These forces trouble those who do spiritual practice, so that such people are deflected from the path of practice and their mind may have negative thoughts about dharma, spirituality, saints and Gurus, so that their practice can be disturbed and the evil forces may take control of such people. In today’s society, more than 50% of good seekers are troubled by negative energies.
Why do saints experience problems?
The subtle body of the saints becomes one with the unmanifest form of God, implying that their subtle bodies are in unison with the society . Thus, they too face problems.
How to realise that one faces problems due to negative energies ?
In this connection, a few points should be taken into consideration– if something is happening that is abnormal and is bad, it is due to negative energies because common people do not possess the ability to transform the normal things into abnormal . If good things are happening and it’s beyond the mind and intellect to analyse them then it is due to saints or some positive energies as they only possess this kind of capability. Similarly, if something bad is happening, and if the intellect cannot comprehend it and despite making physical, intellectual and mental efforts, no special success is being achieved, it must be understood that it is due to negative energies, be it health-related, connected to relationships, or income-related.
What are the problems that can be inflicted due to negative energies ?
Depression, suicidal thoughts, excessive anger and in such a rage loss of self-control, lust-filled thoughts occupying the mind all the time, sleeplessness, excessive sleep, pain in any part of the body and such a pain not being curable through any medicine, extremely restless mind, perennial losses in business/profession, obstacles during examinations, family discord at all times, regular miscarriages, incurring heavy financial losses without any reason, genetic diseases/disorders, being addictive, accidents at frequent intervals and obstacles in job, or means of livelihood. Gang-rapes, homosexuality, dreaded sexual diseases, all these are caused due to the people who are possessed by negative energies.
How to safeguard ourselves from negative energies ?
Follow righteous conduct according to the vedic culture and avoid imitating the western culture for the sake of becoming ‘modern’.
1. Dress up according to Indian culture, remember that dresses pertaining to Bhartiya sanskruti and hindu dharma provide us protection against evil forces and divine attributes are attracted towards us. Hence, women should wear ‘saris’ and men should wear Dhoti, kurta, or kurta-pyjama. Women should not wear male attire. This results in women experiencing problems pertaining to the reproductive organs.
2. Apply a Tilak on the forehead. This too prevents negative energies from entering our Adnya chakra (the midpoint between the two eyebrows).
3. Males should sport a Shikha and if the sacred thread ceremony has been done, then wear a sacred thread too.
4. Ladies should not, even by mistake, either drink or smoke. The reproductive organs of such ladies become easily prone to attack by evil forces and children born from such ladies suffer from spiritual problems caused by evil forces since birth.
5. As far as possible, avoid wearing black-coloured clothes. This too causes problems from evil forces.
6. Avoid eating cooked food from outside, particularly tinned and canned and hotel food. If consuming food is a necessity, it must be eaten after making a prayer and Naam Jaap (name chanting).
7. Avoid staying awake after 11 pm.
8. Stay away from tasting any sort of things that can lead to addictions.
9. Instead of non-vegetarianism, turn to vegetarianism.
10. Take a bath with salt water and a spoonful of cow’s urine, followed immediately after by a normal bath.

11. Avoid deodorants and pungent smells as these have an intense ability to attract evil forces.
12. Avoid wearing synthetic and leather clothes.
13. Do not devote more time than is necessary to television and internet. Such equipments project raj-tam and negative vibrations.
14. Avoid watching horror films and serials.
15. The regular use of salt-water treatment destroys the black veil on the mind and intellect and it helps in concentration and keeping the mind peaceful.
16. Pure and traditional ornaments pertaining to Hindu sanskruti must be worn.
17. While sleeping, the room should not be totally dark.
18. Do Naam Jaap(chanting) as much as possible.
19. Avoid keeping photographs of ancestors in the house.
20. Make efforts to receive the grace of saints and do practice, as recommended by them.
21. A bath, equivalent to a dip in the Ganga or taking a bath in the sea, must be taken at home. This also reduces the troubles given by evil forces.
22. Efforts must be made regularly to purify the atmosphere of the house. Hence, all measures for Vaastu Shuddhi (purification of house architecture) must be done on a regular basis.
23. If possible, keep a Desi (Indian breed) cow in the courtyard.
24. Offer a part of your earning towards Dharma related work.
25. Read scriptures and try to implement them in your life.
26. Converse in your own language inside and outside the house. Sanskrut is known as Devbhasha (language of the Gods). Hence try to learn it yourself and also teach it to the children.
27. Practice Yogasana (yogic postures) and Pranayam regularly. This destroys the black energy accumulated in our body; and the physical form and Manodeh (mind) is purified to some extent. This keeps us physically healthy.
28. Avoid listening to film songs and especially western music for long duration. Due to this, black energy enters our body.
29. Women should keep long hair and not grow nails. Women should not leave their hair untied.
30. Do chanting 15 minutes before sleeping and seek a protective armour from the worshipped deity before sleeping.
31. To remove your faults, note down your mistakes in a diary on a daily basis and make efforts to ensure that the same type of mistake is not repeated.
32. Completely avoid unnecessary talking, abusing etc