Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Wednesday, 23 January 2013

The tale a sense

www.goswamirishta.com


Everything in life and to early-early, everything is increasingly wish to find, and we find that it takes less than twenty-four hours of the day, the perception that these narrative, "and two cup of tea glass barni" we miss.

A Professor of philosophy in the classroom and he told the students that they are going to be taken an important text of life. ...

He brought along a glass at the table of badia barni (jar) and table tennis balls are far too many and then put the remaining space of a single ball in Chino ... He asked the students-barni full? हाँ ... Voice. ... Then fill in the little Professor Sir kankar's h start gradually to all it really quite barni kankar moved where there was a vacancy, he asked Professor again end, Sir, what is full, students now barni once then Yes ... Professor Sir, now called sand from the sand that haule haule-barni, he started to put sand in the jar as possible on his sat, now student nadani laughed. ... Then he asked Professor Sir, why now, barni full? हाँ .. Now there is full.. All-in-one voice said ... Sir, two cups of tea from under the table by removing it risked the tea jar, tea also soak in a sand stone located between place. ... Professor Sir started to explain in a serious voice – the people you consider your life glass barni. ... Table tennis balls are the most important part that is God, family, children, friends, health and hobbies, mean your job, car, large small kankar houses etc, and small sand means more useless things, pique, jhagdea.. Now if you sand off the glass would have been the first barni table tennis balls and no place for kankaron remain, or not given over kankar, balls, sand around may of course. ... Well the same thing applies to life ... If you live in the valleys and small things would delete it your energy back so you have more time for the main things will not ... What is important for the pleasure of mind that you have to decide. Play with your kids, pour water in the garden, get out, walk home with his wife the morning of check-out the fenko, medical stuff up karvao ... Table tennis balls is the same important first, fikra..... First decide that what is essential ... Everything else is the sand ... Students were carefully listening to large Suddenly a asked, Sir but you don't tell "two cups of tea"? Professor muskuraye, said ... I was thinking that it's not a question, ...

The answer is that, how perfect and happy life to us, but we have the ultimate father divine to be always the time I Simran
Photo: एक बोध कथा

जीवन में जब सब कुछ एक साथ और जल्दी - जल्दी करने की इच्छा होती है , सब कुछ तेजी से पा लेने की इच्छा होती है , और हमें लगने लगता है कि दिन के चौबीस घंटे भी कम पड़ते हैं , उस समय ये बोध कथा , " काँच की बरनी और दो कप चाय " हमें याद आती है ।

दर्शनशास्त्र के एक प्रोफ़ेसर कक्षा में आये और उन्होंने छात्रों से कहा कि वे आज जीवन का एक महत्वपूर्ण पाठ पढाने वाले हैं ...

उन्होंने अपने साथ लाई एक काँच की बडी़ बरनी ( जार ) टेबल पर रखा और उसमें टेबल टेनिस की गेंदें डालने लगे और तब तक डालते रहे जब तक कि उसमें एक भी गेंद समाने की जगह नहीं बची ... उन्होंने छात्रों से पूछा - क्या बरनी पूरी भर गई ? हाँ ... आवाज आई ... फ़िर प्रोफ़ेसर साहब ने छोटे - छोटे कंकर उसमें भरने शुरु किये h धीरे - धीरे बरनी को हिलाया तो काफ़ी सारे कंकर उसमें जहाँ जगह खाली थी , समा गये , फ़िर से प्रोफ़ेसर साहब ने पूछा , क्या अब बरनी भर गई है , छात्रों ने एक बार फ़िर हाँ ... कहा अब प्रोफ़ेसर साहब ने रेत की थैली से हौले - हौले उस बरनी में रेत डालना शुरु किया , वह रेत भी उस जार में जहाँ संभव था बैठ गई , अब छात्र अपनी नादानी पर हँसे ... फ़िर प्रोफ़ेसर साहब ने पूछा , क्यों अब तो यह बरनी पूरी भर गई ना ? हाँ .. अब तो पूरी भर गई है .. सभी ने एक स्वर में कहा .. सर ने टेबल के नीचे से चाय के दो कप निकालकर उसमें की चाय जार में डाली , चाय भी रेत के बीच स्थित थोडी़ सी जगह में सोख ली गई ... प्रोफ़ेसर साहब ने गंभीर आवाज में समझाना शुरु किया – इस काँच की बरनी को तुम लोग अपना जीवन समझो .... टेबल टेनिस की गेंदें सबसे महत्वपूर्ण भाग अर्थात भगवान , परिवार , बच्चे , मित्र , स्वास्थ्य और शौक हैं , छोटे कंकर मतलब तुम्हारी नौकरी , कार , बडा़ मकान आदि हैं , और रेत का मतलब और भी छोटी - छोटी बेकार सी बातें , मनमुटाव , झगडे़ है .. अब यदि तुमने काँच की बरनी में सबसे पहले रेत भरी होती तो टेबल टेनिस की गेंदों और कंकरों के लिये जगह ही नहीं बचती , या कंकर भर दिये होते तो गेंदें नहीं भर पाते , रेत जरूर आ सकती थी ... ठीक यही बात जीवन पर लागू होती है ... यदि तुम छोटी - छोटी बातों के पीछे पडे़ रहोगे और अपनी ऊर्जा उसमें नष्ट करोगे तो तुम्हारे पास मुख्य बातों के लिये अधिक समय नहीं रहेगा ... मन के सुख के लिये क्या जरूरी है ये तुम्हें तय करना है । अपने बच्चों के साथ खेलो , बगीचे में पानी डालो , सुबह पत्नी के साथ घूमने निकल जाओ , घर के बेकार सामान को बाहर निकाल फ़ेंको , मेडिकल चेक - अप करवाओ ... टेबल टेनिस गेंदों की फ़िक्र पहले करो , वही महत्वपूर्ण है ..... पहले तय करो कि क्या जरूरी है ... बाकी सब तो रेत है .. छात्र बडे़ ध्यान से सुन रहे थे .. अचानक एक ने पूछा , सर लेकिन आपने यह नहीं बताया कि " चाय के दो कप " क्या हैं ? प्रोफ़ेसर मुस्कुराये , बोले .. मैं सोच ही रहा था कि अभी तक ये सवाल किसी ने क्यों नहीं किया ...

इसका उत्तर यह है कि , जीवन हमें कितना ही परिपूर्ण और संतुष्ट लगे , लेकिन हमारे पास उस परम पिता परमात्मा को सिमरन करने के लिए हमेशा समय होना चाहिए I