Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Friday, 1 February 2013

कहीं ये वो तो नहीं

www.goswamirishta.com

ज़रा सी आहट होती है तो दिल सोचता है 
कहीं ये वो तो नहीं, कहीं ये वो तो नहीं 
ज़रा सी आहट होती है...

छुप के सीने में कोई जैसे सदा देता है 
शाम से पहले दीया दिल का जला देता है 
है उसी की ये सदा, है उसी की ये अदा 
कहीं ये वो तो नहीं...

शक्ल फिरती है निगाहों में वही प्यारी सी 
मेरी नस-नस में मचलने लगी चिंगारी सी
छू गई जिस्म मेरा किसके दामन की हवा
कहीं ये वो तो नहीं...