Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Tuesday, 19 February 2013

सबसे कीमती-बीरबल

www.goswamirishta.com


एक बार रानी से कुछ गलती हो गई | बादशाह अकबर ने उन्हें क्रोध में आदेश दिया, “में चाहता हूँ की तुम चोबीस घंटे के अंदर राजमहल छोडकर चली जाओ | चाहे तो अपने साथ अपनी सबसे कीमती वस्तु ले जा सकती हो |”
रानी बहुत घबरा गई | ऐसे में उन्हें बीरबल ही एकमात्र सहारा नजर आया, इसलिए वह तुरंत मदद के लिए बीरबल के पास पहुची| बीरबल ने उनकी समस्या सुनी और बहुत सोच-विचर कर उन्हें एक योजना समझाई | उस योजना के अनुसार अपने कक्षमें आकर रानी ने अपनी सेविका को जल्दी ही अपना सामान बाधने के निदेश दिए | सब तेयारी जल्दी ही पूर्ण होने पैर रानी ने बादशाह को बुलवाया | बादशाह के आने पर वह बोली, “क्या आप हमारे हाथ से एक गिलास शरबत पि सकते है?”
बादशाह तेयार हो गए | रानी ने शरबत में नीद की दवा मिला गी थी | शरबत पिटे ही बादशाह गहरी नीद में सो गए | तब रानी ने सेनिको से पालकी मंगाकर बादशाह अकबर को उसमे लिटा दिया | फिर अपने सामान और बादशाह अकबर के साथ राजमहल छोड़ क्र अपने पिता के घर चली गई |
वंहा पहुचकर बादशाह को उन्होंने पलंग पर लिटा दिया | बादशाह अब तक नीद में थे | जब रानी के पिता ने उनसे इस सब का कारण पूछा तो उन्होंने उन्हें कुछ देर प्रतिक्षा करने को कहा | कुछ घंटो के पश्चात बादशाह की नीद खुली | उन्होंने अपने आस – पास देखा | रानी को उन्होंने खिड़की के पास खड़े पाया |