Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Sunday, 17 February 2013

इच्छा जागी

www.goswamirishta.com

जब आपके मन में प्रभु का नाम लेने की इच्छा जागी.. संतों के दर्शन की इच्छा जागी.. तीर्थों के सेवन की इच्छा जागी.. अनायास ही.. तो वो इच्छा पहले भगवंत और संत के मन में जागी कि वो आपको अपने पास बुलाएँ.. जब ऐसा हो कि आपको नाम जपने का अचानक से मन करे.. संतों से मिलने की इच्छा हो तो बस उधर कदम बढा दो .. यात्रा बड़ी सुगम होगी क्योंकि आपको कुछ करना ही नहीं होगा सारा इंतेज़ाम पहले ही हो चुका होता है..