Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Thursday, 4 July 2013

व्याधीनुसार रस चित्किसा

www.goswamirishta.com



खून बढ़ाने के लिए : अनार, मोसंबी, अंगूर, पालक, टमाटर, बिट, सेफ, रसबेरी का रस, रात को भिगोकर रखे

हुये किसमिस या काले अंगूर के पानी का सुबह सेवन, इलायची, केला आदि का सेवन, खजूर का सेवन आदि
उपयुक्त है |

आम्लपित्त (Acidity) : आँवला, एलोवेरा, गाजर, पालक, ककड़ी का रस, फलों का रस ज्यादा प्रमाण
में लेना चाहिए | अंगूर, मोसंबी और दूध लाभदायी है |

पिंपल के व्रण : नींबू, आँवला, ताज़ी हल्दी, नीम, पमकिन, एलोवेरा, प्याजऔर पालक का रस लाभदायी है |

फोड़ी-फुँसी : आँवला, नीम के पत्ते और फूल, एलोवेरा, पालक, ककड़ी, गोबी का रस और नारियल का दूध लाभदायी है |

वेदनादायी मासिक हो तो : अंगूर, एलोवेरा, आँवला और रसबेरी का रस लाभदायी है |

नेत्र ज्योतिवर्धक : आँवला, गाजर, और हरी धनिया का रस गुणकारी है | दूध,घी और बादाम लाभदायी है |

अनिद्रा : अंगुर और सेब का रस आधा से एक ग्राम पीपलामुल दूध के साथ लें |

वजन बढ़ाने के लिए : आम, पालक, गाजर, बिट और नारियल का दूध, खजूर, दूध, घी, दही, सुखा मेवा,
अंगूर, और सेब लाभदायी है |

सिरदर्द : आँवला, अनार, अंगूर, मोसंबी, सेब, ककड़ी का रस, नारियल पानी लाभदायी है |

वजन घटाने के लिए : १ नींबू और २५ तुलसी के पत्ते, १ ग्लास थोडा सा गरम वाला पानी, १ चम्मच शहद हफ्ते
में २–३ दिन सुबह खाली पेट लेने से फायदा होता है | रविवार के दिन ये प्रयोग नहीं करना |

रस के प्रमाण : एलोवेरा, अनार, अंगूर, नींबू, आँवला, ताज़ी हल्दी, नीम के पत्ते और फूल, पमकिन, ककड़ी, गोबी, प्याज और पालक का रस, नारियल का दूध : १५ से २५ मि.ली. और दूसरे फल के रस का प्रमाण : २५ से ५० मि.ली.

सावधानी : १) सूर्यास्त के बाद फलों का रस नही लेना चाहिए |
२) खाना खाने से पहले और बाद में फलों के रस का सेवन नहीं करना क्योकि पाचन क्रिया खराब होती है |
३) फलों का रस दूध के साथ नहीं सेवन करना |

विशेष : इलेक्ट्रॉनिक उपकरण का उपयोग करने के बजाय खल से कुटकाट और सूती कपड़ों में से छान कर फलों का रस निकालने से उसका औषधि गुणधर्मों का विशेष लाभ होता है |