Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Thursday, 18 July 2013

लक्ष्य

www.goswamirishta.com

किसी गाँव मे एक साधु रहा करता था ,वो जब भी नाचता तो बारिस होती थी . अतः गाव के लोगों को जब भी बारिस की जरूरत होती थी ,तो वे लोग साधु के पास जाते और उनसे अनुरोध करते की वे नाचे , और जब वो नाचने लगता तो बारिस ज़रूर होती.

कुछ दिनों बाद चार लड़के शहर से गाँव में घूमने आये, जब उन्हें यह बात मालूम हुई की किसी साधू के नाचने से बारिस होती है तो उन्हें यकीन नहीं हुआ .

शहरी पढाई लिखाई के घमंड में उन्होंने गाँव वालों को चुनौती दे दी कि हम भी नाचेंगे तो बारिस होगी और अगर हमारे नाचने से नहीं हुई तो उस साधु के नाचने से भी नहीं होगी.फिर क्याथा अगले दिन सुबह-सुबह ही गाँव वाले उन लड़कों को लेकर साधु की कुटिया पर पहुंचे.

साधु को सारी बात बताई गयी , फिर लड़कों ने नाचना शुरू किया , आधे घंटे बीते और पहला लड़का थक कर बैठ गया पर बादल नहीं दिखे , कुछ देर में दूसरे ने भी यही किया और एक घंटा बीतते-बीतते बाकी दोनों लड़के भी थक कर बैठ गए, पर बारिश नहीं हुई.

अब साधु की बारी थी , उसने नाचना शुरू किया, एक घंटा बीता, बारिश नहीं हुई, साधु नाचता रहा…दो घंटा बीता बारिश नहीं हुई….पर साधु तो रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था ,धीरे-धीरे शाम ढलने लगी कि तभी बादलों की गड़गडाहत सुनाई दी और ज़ोरों की बारिश होने लगी . लड़केदंग रह गए

और तुरंत साधु से क्षमा मांगी और पूछा-
” बाबा भला ऐसा क्यों हुआ कि हमारे नाचने से बारिस नहीं हुई और आपके नाचने से हो गयी ?”

साधु ने उत्तर दिया – ” जब मैं नाचता हूँ तो दो बातों का ध्यान रखता हूँ , पहली बात मैं ये सोचता हूँ कि अगर मैं नाचूँगा तो बारिस को होना ही पड़ेगा और दूसरी ये कि मैं तब तक नाचूँगा जब तक कि बारिस न हो जाये .”

Friends सफलता पाने वालों में यही गुण विद्यमान होता है वो जिस चीज को करते हैं उसमे उन्हें सफल होने का पूरा यकीन होता है और वे तब तक उस चीज को करते हैं जब तक कि उसमे सफल ना हो जाएं. इसलिए यदि हमें सफलता हांसिल करनी है तो उस साधु की तरह ही अपने लक्ष्य को प्राप्त करना होगा.
A village is a Sage, he was the bears when dances. So whenever people need bears town, they go to the Sadhu and request they dined, and when he does the dancing bears of course.

A few days later the four boys in the village from the city when it was known by a sadhu of dancing bears, they sure did not happen.

Boasting never interested in village of urban people who read challenging that we also will the bears and if nexon was not from our dancing over the monk's dancing; then kyatha next day morning only to those with the village boys arrived at the Hermitage of Sage.

Sage noted the whole thing, then started dancing boys, half an hour ago and the first boy sat on the cloud, not tired while the other has followed suit and the rest an hour passing-passing both boys sat tired, not even on the rain.

Now, she started dancing monks turn, an hour elapsed, rain dances, Sage ...Two hours elapsed did not rain .... not only the name of the monk was taking the stay, only gradually began to conduct that evening and hear the rain clouds to be zoron gadgadahat. Ladkedang and immediately sought forgiveness from the monk and asked-"why it happened that Baba bless us from dancing bears and not gotten from the dance?"

Sage replied – "when I'll keep two dances the points, the first thing I wonder if I will be on the bears and other nachunga that I do not nachunga until the bears."

Friends success in those properties to get the thing to do that would exist if he is sure of succeeding and do the thing to not succeed in that. So if we have success like the Sage conquered nature to achieve your goal.