Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Wednesday, 2 October 2013

|| धर्म की आवश्यकता ||

www.goswamirishta.com

वेद - शास्त्र - पुराण और संत - महात्माओं के वचनों और सिद्ध पुरुषों के आचरणों से यही सिद्ध होता है की संसार धर्म पर ही टिका हुआ है , धर्म से ही मनुष्य -जीवन की सार्थकता है , धर्म ही मनुष्य को पापों से बचाकर उन्नत जीवन में प्रवेश करवाता है , धर्मबल से ही विपत्तिपूर्ण संसार और परलोक में जीव दुःख के नरक से पार उतर सकता है | ऐसा माना जाता है की धर्म के बिना मनुष्य का जीवन पशु - जीवन -सदृश ही हो जाता है | धर्महीन मनुष्य उछ्रिन्खल हो जाता है और उसके मनमाने आचरण से समाज और देश को कष्ट उठाना पड़ता है | धर्म ही मनुष्य को संयमी , साहसी , धीर , वीर , जितेन्द्रिय और कर्त्तव्यपरायण बनाता है | धृति , क्षमा , मन का निग्रह , अस्तेय , शौच , इन्द्रियनिग्रह , निर्मल बुद्धि , विद्या , सत्य और अक्रोध - ये दस धर्म के लक्षण हैं |
महाभारत में कहा है - मन , वाणी और कर्म से प्राणिमात्र के साथ अद्रोह , सब पर कृपा और दान यही साधू पुरुषों का सनातन - धर्म है | पद्मपुराण में धर्म के लक्षण ये बताए हैं - हे प्रिय ! ब्रह्मचर्य , सत्य , पञ्चमहायज्ञ , दान , नियम , क्षमा , शौच , अहिंसा , शांति और अस्तेय से व्यवहार करना - इन दस अंगों से धर्म की ही पूर्ती करे | धर्म ही हमारे लोक - परलोक का एक मात्र सहायक और साथी है , धर्म मनुष्य को दुःख से निकालकर सुख की शीतल गोद में ले जाता है | असत्य से सत्य में ले जाता है , अंधकारपूर्ण हृदय में अपूर्व ज्योति का प्रकाश कर देता है | धर्म ही चरित्र - निर्माण में एक मात्र सहायक है | धर्म से ही अधर्म पर विजय प्राप्त हो सकती है | कहा भी है " अनीति से जात है , राज , तेज और वंश ; तीनों ताले जड गए , कौरव , रावण , कंश |
महाराणा प्रताप , छत्रपति शिवाजी आदि का नाम हिंदू जाती में धर्मरक्षा के कारण ही अमर है | युधिष्टर ने धर्मपालन के लिए ही कुत्ते को साथ लिए बिना अकेले सुखमय स्वर्ग में जाना अस्वीकार कर दिया था | मीराबाई धर्म के लिए जहर का प्याला पी गई थी | ईशामसीह धर्म के लिए ही शूली पर चढ गए थे | भगवान बुद्ध ने धर्म के लिए ही शरीर सुखा दिया था | इसी कारण आज इन महानुभावों के नाम अमर हो रहे हैं | धर्म के अभाव में पर - धन और पर स्त्री का अपहरण करना , दीनों को दुःख पहुंचाना तथा मनमानी करना और भी सुगम हो जायेगा | सर्वथा धर्मरहित जगत की कल्पना ही विचारवान पुरुष के हृदय को हिला देती है |
मनु महाराज के ये वाक्य स्मरण रखने चाहिए कि - परलोक में सहायता के लिए माता , पिता , पुत्र , स्त्री और संबंधी नहीं रहते | वहाँ एक धर्म ही काम आता है | मरे हुऐ शरीर को बन्धु - बांधव काठ और मिटटी के ढेले के समान पृथ्वी पर पटक कर चले आते हैं , एक धर्म ही उसके पीछे जाता है | अतैव परलोक में सहायता के लिए नित्य धर्म का संचय करना चाहिए | धर्म की रक्षा के लिए ही स्वयम भगवान पृथ्वी पर अवतार लेते हैं [ श्लोक ४ / ७ ] | साधू पुरुषों का उद्धार करने के लिए , पापकर्म करने वालों का विनाश करने के लिए और धर्म की स्थापना करने के लिए मैं युग -युग में प्रकट हुआ करता हूँ [ श्लोक ४ / ८ ] |