Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Friday, 25 October 2013

धूम्रपान का नकारात्‍मक असर पड़ता है इनसान की कार्यक्षमता पर

www.goswamirishta.com

धूम्रपान का असर मानव कार्यक्षमता पर

धूम्रपान की लत हमारी सेहत के लिए कितनी खतरनाक है यह तो हम जानते ही हैं। हमें मालूम है कि धूम्रपान करने से कई बीमारियां इनसान को अपना शिकार बना लेती हैं। हृदय रोग, फेफड़े का रोग और कैंसर जैसे खतरनाक रोगों का बड़ा कारण धूम्रपान ही होता है। लेकिन, क्‍या धूम्रपान का असर केवल इनसान के स्‍वास्‍थ्‍य पर ही पड़ता है। 

एक ताजा सर्वे में यह बात सामने आयी है कि धूम्रपान करने की लत न केवल सेहत, बल्कि व्‍यक्ति की कार्यक्षमता पर भी असर डालती है। यानी सिगरेट की लत इनसान पर दोहरी मार करती है। व्‍यक्ति की सेहत और काम दोनों के लिए यह आदत बुरी मानी जाती है।

इस सर्वे में पाया गया कि सिगरेट पीने के लिए लोग अपने काम से ब्रेक लेते हैं। जिससे वे रोजाना करीब 45 मिनट अपनी सीट पर मौजूद नहीं रहते। इन सबको मिलाकर वे साल में एक हफ्ते की छुट्टी के बराबर काम से नदारद रहते हैं। यानी हर बार सिगरेट पीने के लिए अपनी सीट से उठने पर अपने काम का नुकसान करते हैं।

ब्रिटेन की एक कंपनी ने अपने सर्वे में यह दावा किया है। इसमें शामिल पांच में से एक व्‍यक्ति ने माना कि सिगरेट पीने के कारण वे उन सहकर्मियों के मुकाबले कम काम कर पाते हैं जो धूम्रपान नहीं करते। धूम्रपान करने वाले लोगों ने स्‍वीकारा कि वे रोजाना काम से छह बार ब्रेक लेते हैं। और हर बार सिगरेट पीने पर वह करीब साढ़े सात मिनट खर्च करते हैं।