Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Tuesday, 3 December 2013

भोजन बनाना और भोजन ग्रहण करना

www.goswamirishta.com

भोजन बनाना और भोजन ग्रहण करना दोनोंको वैदिक संस्कृतिमें यज्ञकर्म माना गया है; परंतु आज कल एक पैशाचिक प्रथा देखनेको मिलती है और वह है दूरदर्शन संचपर रज-तम प्रधान कार्यक्रम देखते हुए भोजन ग्रहण करना ! विशेषकर आजकी माएं बचपनसे ही अपने बच्चेमें यह कुसंस्कार डाल देती हैं और उसका दुष्परिणाम बच्चोंमें विभिन्न कुसंस्कार एवं व्याधियोंके रूपमें देखनेको मिल रहा है !
In the absence of Dharmashikshan (abiding education about righteousness) and under the influence of the blind imitation of Macaulay’s satanic education system, today we do not follow the spiritual practice at individual level. As we don’t abide by Dharma and due to widespread Dharmaglaani (denigration of Dharma) and a Nidharmi (conductless) nation system, deterioration at Samashti level (spiritual practice at societal level) too has set in. As such, the fury of the deity and nature is certain and has to be endured.


भोजन बनाना और भोजन ग्रहण करना दोनोंको वैदिक संस्कृतिमें यज्ञकर्म माना गया है; परंतु आज कल एक पैशाचिक प्रथा देखनेको मिलती है और वह है दूरदर्शन संचपर रज-तम प्रधान कार्यक्रम देखते हुए भोजन ग्रहण करना ! विशेषकर आजकी माएं बचपनसे ही अपने बच्चेमें यह कुसंस्कार डाल देती हैं और उसका दुष्परिणाम बच्चोंमें विभिन्न कुसंस्कार एवं व्याधियोंके रूपमें देखनेको मिल रहा है !
In the absence of Dharmashikshan (abiding education about righteousness) and under the influence of the blind imitation of Macaulay’s satanic education system, today we do not follow the spiritual practice at individual level. As we don’t abide by Dharma and due to widespread Dharmaglaani (denigration of Dharma) and a Nidharmi (conductless) nation system, deterioration at Samashti level (spiritual practice at societal level) too has set in. As such, the fury of the deity and nature is certain and has to be endured.