Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Thursday, 3 April 2014

रोज खाना खाते समय ध्यान रखेंगे ये बातें तो नहीं होंगी ऐसी परेशानियां

www.goswamirishta.com

आज के समय में हमारी दिनचर्या में कई बड़े-बड़े परिवर्तन हो गए हैं। इन परिवर्तनों का सीधा असर हमारे स्वास्थ्य पर हुआ है। आज अधिकांश लोग मोटापे की समस्या से त्रस्त हैं। बढ़ते वजन को रोकने के लिए कई प्रकार के प्रयास किए जाते हैं, फिर भी बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जो मोटापे की गिरफ्त से आजाद हो पाते हैं।
मोटापे से बचने के लिए योग-व्यायाम सबसे अच्छा उपाय हैं, लेकिन इसके साथ ही खान-पान के तरीके में भी कुछ बातों का ध्यान रखना आवश्यक है। पुराने समय से ही ऐसी परेशानियों से बचने के लिए कई प्रकार की परंपराएं बनाई गई हैं। जो लोग इन परंपराओं का पालन करते हैं, उन्हें स्वास्थ्य संबंधी लाभ के साथ ही धर्म लाभ भी प्राप्त होता है।
यहां जानिए खाते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, जिससे मोटापे की समस्या और पेट से जुड़ी कई छोटी-छोटी बीमारियों का सामना नहीं करना पड़ता है।
जमीन पर बैठकर करें भोजन
प्राचीन परंपरा है कि हमें खाना जमीन पर बैठकर ही खाना चाहिए, लेकिन आज इस परंपरा का निर्वाह बहुत कम लोग करते हैं। भौतिक सुख-सुविधाओं की लालसा में व्यक्ति ने प्राचीन परंपराओं को भुला दिया है। काफी लोग जीवन स्तर को उच्च बनाए रखने और दिखाने के लिए टेबल-कुर्सी पर भोजन करने लगे हैं। जबकि पुराने समय में बड़े-बड़े राजा-महाराजा तक जमीन पर बैठकर भोजन किया करते थे। जमीन पर बैठकर भोजन करना स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत लाभदायक होता है।
जब जमीन पर बैठकर खाना खाते हैं, तब हम एक विशेष योगासन की अवस्था में बैठते हैं। इस आसन को सुखासन कहा जाता है। सुखासन, पद्मासन का ही एक रूप है। सुखासन से वे सभी स्वास्थ्य संबंधी लाभ प्राप्त होते हैं जो पद्मासन से प्राप्त होते हैं। टेबल पर बैठकर भोजन करने से ये सभी लाभ प्राप्त नहीं हो पाते हैं, इसी वजह से मोटापा भी बढ़ता है और कब्ज, गैस, अपच की समस्या होती है।
सुखासन में भोजन करने से कौन-कौन से लाभ मिलते हैं...
सुखासन में बैठने से हमारा मन शांत रहता है, एकाग्रता बढ़ती है। किसी भी कार्य को करने के लिए अत्यधिक ऊर्जा मिलती है। जब हम सुखासन में बैठकर भोजन करते हैं तो पैरों के साथ ही पूरे शरीर का रक्त संचार व्यवस्थित होता है।
इस प्रकार बैठकर भोजन करने से खाना पचने में आसानी होती है। पाचनतंत्र व्यस्थित होता है। पेट से जुड़े छोटे-छोटे रोग, जैसे मोटापा, कब्ज, गैस, अपच आदि दूर होते हैं। यदि कोई व्यक्ति हमेशा इस आसन में बैठकर भोजन ग्रहण करता है तो निश्चित ही उसे काफी लाभ स्वत: ही प्राप्त हो जाते हैं।
यदि व्यक्ति को किसी परेशानी के कारण डॉक्टर्स ने बैठकर भोजन करने से मना किया है तो इस आसन में बैठकर भोजन नहीं करना चाहिए।
ऐसे भोजन करने से देवी-देवता भी होते हैं प्रसन्न
शास्त्रों के अनुसार यदि हम इस प्रकार शांति से और पारंपरिक तरीके से भोजन करते हैं तो देवी-देवताओं की कृपा भी प्राप्त होती है। अन्न देवता भी तृप्त होते हैं। ऐसे खाना खाने से हमारे शरीर को अधिक सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है। खाने के बाद आलस्य नहीं होता है। खाते समय इस बात का विशेष ध्यान रखें कि जितनी भूख हो उतना भी भोजन करें। आवश्यकता से अधिक भोजन आलस्य बढ़ाता है, मोटापा बढ़ाता है और कब्ज आदि परेशानियां पैदा करता है।
भोजन शुरू करने से पहले हमें अपने इष्टदेव का ध्यान भी करना चाहिए। परमात्मा को भोजन के धन्यवाद कहते हुए भोजन ग्रहण करेंगे तो श्रेष्ठ रहेगा। भोजन से पूर्व किसी भी मंत्र का जप करना शुभ रहता है। मंत्र, जैसे ऊँ नम: शिवाय, सीताराम, ऊँ रामदूताय नम: आदि।
भोजन के बाद कुछ देर ऐसे बैठें
भोजन के बाद कुछ देर वज्रासन में भी बैठना चाहिए। इस आसन में बैठने के लिए घुटनों को पीछे मोड़कर इस तरह से बैठें कि नितंब दोनों एड़ियों के बीच में आ जाएं। दोनों पैरों के अंगूठे आपस में मिले रहें और एड़ियों में दूरी भी रहे। दोनों हाथों को घुटनों पर रखें। शरीर को सीधा रखें। हाथों और शरीर को पूरी तरह ढीला छोड़ दें और कुछ देर के लिए अपनी आंखें बंद कर लें। भोजन के बाद कुछ देर ऐसे ही बैठें। यह आसन खाने के बाद करने से आपका पाचन बहुत अच्छा हो जाएगा। मोटापा, गैस, कब्ज और अपच जैसी परेशानियां दूर हो जाएंगी।
ध्यान रखें कि भोजन के तुरंत बाद सोना नहीं चाहिए। जो लोग खाना खाने के तुरंत बाद सोते हैं, वे तेजी से मोटापा का शिकार हो जाते हैं।
आगे जानिए महाभारत के अनुशासन पर्व के अनुसार भोजन के संबंध में बताए गए महत्वपूर्ण नियम... इन नियमों में बताया गया है कि हमें कैसा भोजन नहीं करना चाहिए...
- महाभारत के अनुशासन पर्व के अनुसार जिस खाने को किसी व्यक्ति द्वारा लांघ दिया गया हो, वह खाना ग्रहण नहीं करना चाहिए। ऐसा खाना अपवित्र हो जाता है।
- यदि भोजन को किसी अन्य व्यक्ति द्वारा चाट लिया गया हो, जूंठा कर दिया गया हो तो वह भोजन नहीं खाना चाहिए।
-जो खाना लड़ाई-झगड़ा करके हासिल किया गया हो, उस खाने को भी नहीं खाना चाहिए।
- यदि खाने पर किसी रजस्वला स्त्री की परछाई पड़ जाए या ऐसी स्त्री खाने को देख भी ले तो वह खाना दूषित हो जाता है। ऐसा खाना नहीं खाना चाहिए।
- यदि खाने को किसी कुत्ते ने छू लिया हो या खाने पर कुत्ते की नजर पड़ गई हो तो वह खाना भी अपवित्र हो जाता है।
- यदि खाने में बाल निकल जाए तो खाना भी अपवित्र हो जाता है। ऐसा खाना नहीं खाना चाहिए।
- यदि खाने में कीड़े गिर जाएं तो वह खाना अशुद्ध हो जाता है। ऐसा खाना खाने से हमारे स्वास्थ्य को बीमारी का खतरा हो सकता है।
- यदि खाना किसी व्यक्ति की छींक या आंसू से दूषित हो जाए तो वह खाना नहीं खाना चाहिए।
- यदि किसी दुराचारी व्यक्ति द्वारा हमारे भोजन में से कुछ खाना खा लिया गया हो तो वह भोजन भी नहीं खाना चाहिए। ऐसा खाना राक्षसों का भाग हो जाता है।
- देवता, पितर, अतिथि एवं बालक को दिए बिना ही भोजन करना वर्जित किया गया है। अत: खाना खाने से पहले देवी-देवताओं और पितर को भोग लगाना चाहिए। यदि घर में कोई अतिथि है या कोई छोटा बच्चा है तो पहले उन्हें भोजन दें।
रोज खाना खाते समय ध्यान रखेंगे ये बातें तो नहीं होंगी ऐसी परेशानियां