Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Wednesday, 6 February 2013

झगड़े से आराम से बच सकते हैं

www.goswamirishta.com
दांपत्य बंधन में बंधने के बाद एक समय ऐसा भी आता है जब बात-बात पर पति-पत्नी में झगड़े शुरू हो जाते हैं। व्यक्ति अपने जीवनसाथी से व्यर्थ के झगड़ों में उलझ, अपना जीवन भी तनावमय बना लेता है। शादी के बाद आप अपने जीवन साथी के साथ सुकुन का जीवन व्यतीत कर सकें, अपने जीवनसाथी के सुख-दुख में अपना साथ दे सकें इसके लिए जरूरी है कि आप कुछ बातों का ध्यान रखें। आइए जानें दांपत्य के झगड़ों से बचने के लिए क्या करें।

पति-पत्नी 24 घंटे साथ रहते हैं और उनका रिश्ता बहुत ही नाजुक होता है। ऐसे में तमाम मुद्दों पर असहमति और मतभेद होने की गुजाइंश रहती है। हालांकि दोनों को ही छोटी-छोटी बात पर मतभेद करने से बचना चाहिए।
यदि आपके साथी का स्वभाव तेज है तो आपको अपने साथी को समझते हुए नरमी से पेश आना चाहिए।
हर बात पर तर्क-वितर्क और बहस न करें। कभी-कभी बातें सुनना भी अच्छात रहता है।
यदि पति-पत्नी के बीच एक को बहुत ज्यादा बोलने की आदत है, तो दूसरे को चुपचाप सुन लेना चाहिए।
झगड़ा होने के बावजूद लंबे समय तक बातचीत बंद न करें। लगातार संवाद करते रहें।
पुरानी बातों को लेकर बहस न करें और अतीत को लेकर झगड़ा न करें।
कभी भी तीसरे व्यक्ति के लिए आपस में न झगड़े या फिर किसी के बहकावे में आकर बिना कारण जानें झगड़ा न करें। यदि आपस में झगड़ा है भी तो बाहर के किसी तीसरे व्यक्ति के साथ शेयर न करें।
झगड़े के दौरान एक-दूसरे के परिवार को बीच में न लाएं, इससे झगड़ा अधिक बढ़ने की संभावना रहती है।
एक-दूसरे की कमजोरी का मजाक न उड़ाए और न ही झगड़े में ऐसी बातों को तूल दें। जितनी जल्दी हो सकें झगड़े को खत्म करें या फिर झगड़े का कारण ढूंढ उसका समाधान करें।
आपकी गलती है, तो भी आप माफी मांगने की पहल करें इससे आपके साथी को अच्छा लगेगा और आपके बीच पैदा हुई गलतफहमियां भी दूर होंगी।
एक-दूसरे पर गलत आरोप लगाने से बचें। साथ ही सार्वजनिक तौर पर बिल्कुल न झगड़े।

इन टिप्स को अपनाकर आप झगड़े से आराम से बच सकते हैं साथ ही अपने साथी को अपने करीब ला सकती हैं।