Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Wednesday, 14 September 2011

हमारे दशनाम इस परकार है

(1)-वन, (2)-अरण्य, (3)-गिरि, (4)-सागर, (5)-पर्वत, (6)-तीर्थ, (7)-आश्रम, (8)-पुरि, (9)-भारती, (10)-सरस्वती


हमारे समाज की 52 मढी है जो इस परकार है-


गिरि,पर्वत,सागर की 27 मढी है,,,,, ओर पुरियो की 16 मढी है,...,,,, -ओर गुरू शंकरा चार्य सन्यासी वन की 4 मढी हैI -ओर भारतीयो की 4 मढी है --ओर लामा गुरू की 1 मढी है-----------जिनका विवरण इस परकार है======


{गिरि,पर्वत,सागर की 27 मढी इस परकार है --


1-रामदत़ी, 2-ओंकार लाल नाथी, 3-चन्दनाथी बोदला, 4-व्रहा नाथी, 5-दुर्गा नाथी, 6-व्रहा नाथी, 7-सेज नाथी, 8-जग जीवन नाथी, 9-पाटम्बर नाथी, 10-ज्ञान नाथी- -11-अघोर नाथी, 12-भाव नाथी, 13-ऋदि नाथी, 14-सागर नाथी, 15-चाँद नाथ बोदला, 16-कुसुम नाथी, 17-अपार नाथी, 18-रत्न नाथी, 19-नागेन्द्र नाथी, 20-रूद्र नाथी 21-महेश नाथी, 22-अजरज नाथी, 23-मेघ नाथी, 24-पर्वत नाथी, 25-मान नाथी, 26-पारस नाथी, 27-दरिया नाथी 


 पुरियो की 16 मढी इस परकार है------------- 1-वैकुण्ठ पुरि, 2-केशव पुरि मुलतानी, 3-गंगा पुरि दरिया पुरि, 4-ञिलोक पुरि, 5-वन मेघनाथ पुरि, 6-सेज पुरि, 7-भगवन्त पुरि, 8-पू्रण पुरि 9-भण्डारी हनुमत पुरि, 10-जड भरत पुरि, 11-लदेर दरिया पुरि, 12-संग दरिया पुरि, 13-सोम दरिया पुरि 14-नील कण्ठ पुरि, 15-तामक भियापुरि, 16-मुयापुरिनिरंजनी-



 गुरू शंकरा चार्य सन्यासी वन की 4 मढी इस परकार है---- -1-गंगासनी वन, 2-सिंहासनी वन, 3-वाल वन कुण्डली श्री वन, 4-होड सारी वन-अत्म वन, 


 भारती की 4 मढी इस परकार है----- -1-मन मुकुन्द भारती , 2-नृसिंह भारती, 3-पदम नाथ भारती , 4-बाल किषन भारती ,--


लामा गुरू की 1 मढी इस परकार है--------पाहरी की छाप लामा गुरु की मढी चीन में है॥ 


कृपया इस विवरण को समाज के व्यक्तियो तक पहुचाऎ ताकि सभी हमारे समाज के बारे में जान सके॥