Adsense

लिखिए अपनी भाषा में

Monday, 21 January 2013

बांके बिहारी तेरे नैना कजरारे

www.goswamirishta.com


बांके बिहारी तेरे नैना कजरारे,
नज़र ना लग जाए, ओये ओये ओये ।
मोर का मुकुट शीश पे शोभा पा रहा ।
मुखड़े को देख के चाँद भी लज्जा रहा ।
अधरों से छलके हैं रस की फुआरें ॥
तीखी कतारें, दोनों नैनो में कजरा ।
बाल हैं तिहारे जैसे सावन के बदरा ।
गालों पे छाए कारे कारे घुंघराले ॥
पतली कमर तेरी लचके कमाल की ।
वारि वारि जाऊं तेरी मस्तानी चल की ।
करती पायलिया तेरी मीठी झंकारें ॥
रमण बचाऊं तोहे सब की नज़र से ।
आजा छिपालूं तोहे नैनो के घर से ।
सुन मेरे प्यारे इस दिल की पुकारें ॥
बांके बिहारी तेरे नैना कजरारे,
नज़र ना लग जाए, ओये ओये ओये ।